Home > BUSINESS > टीसीएस के बाद इंडिया इंक का अगला किंग कौन -Newslok.com

टीसीएस के बाद इंडिया इंक का अगला किंग कौन -Newslok.com

टीसीएस के बाद इंडिया इंक का अगला किंग कौन -Newslok.com

-रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचडीएफसी बैंक पर नजरें

मुंबई,टीसीएस के बाद इंडिया इंक का अगला किंग कौन -Newslok.com|| पिछले सप्ताह की शुरुआत में बने एक रिकॉर्ड से इंडिया इंक के नए शिखरों को छूने का दौर शुरू हो सकता है। 23 अप्रैल को टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज लिमिटेड (टीसीएस) का मार्केट कैपिटलाइजेशन 100 अरब डॉलर का आंकड़ा पार कर गया। यह 103 अरब डॉलर यानी 6.8 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया। इसका शेयर बीएसई पर 3557 रुपये के हाई पर चला गया। हालांकि उस दिन के ऊपरी स्तर से मार्केट कैप नीचे आ गया है,लेकिन हफ्ते के दौरान यह उसी के आसपास बना रहा। बीएसई के मुताबिक, टीसीएस का शेयर शुक्रवार को 3454.80 रुपये पर बंद हुआ। इस तरह इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन 99.27 अरब डॉलर यानी 6.61 लाख करोड़ रुपये पर है।

 

इसके बाद बाजार में सवाल भी उठ रहा है कि अगला कौन? अब नजरें रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचडीएफसी बैंक पर हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 27 अप्रैल को रिकॉर्ड हाई बनाया और 6.3 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप पर पहुंच गई। इसके बाद नंबर आईटीसी, मारुति सुजुकी इंडिया और हिंदुस्तान यूनीलीवर का है। ये कंपनियां अगले कुछ वर्षों में 100 अरब डॉलर क्लब में शामिल हो सकती हैं। मार्केट कैप के लिहाज से कंपनियों की ग्लोबल लिस्ट में टीसीएस अभी 104वें और रिलायंस 119वें नंबर पर है। एचयूएल और मारुति अभी काफी नीचे हैं, लेकिन इन कंपनियों ने पिछले कुछ वर्षों में तेजी से अपना मार्केट कैप बढ़ाया है।

भारत पर निगरानी के लिए पाक ने बनाया 470 करोड़ का प्लान – Newslok.com

मार्केट पर नजर रखने वाले अब सवाल कर रहे हैं कि क्या यह भारतीय कंपनियों की ग्रोथ के एक नए दौर की शुरुआत है,जिनमें से कई अब मार्केट कैप के लिहाज से ग्लोबल टॉप 100 कंपनियों में शामिल हैं। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि इस खेल में गोलपोस्ट लगातार बदलते रहते हैं। रिलायंस इससे पहले 18 अक्टूबर 2007 को 100 अरब डॉलर क्लब में एक बार जा चुकी है। उस दिन दोपहर के बाद कंपनी के 10.57 लाख शेयरों की ट्रेडिंग हुई थी, जिससे शेयर 114 गुना से ज्यादा उछल गया था और 2805 रुपये के अपने लाइफटाइम हाई पर चला गया था। मार्केट कैप उस दिन 4.07 लाख करोड़ रुपये था। तब रुपया डॉलर के मुकाबले 39.9 पर था। अब 66-67 रुपये के बराबर एक डॉलर है। रिलायंस के लिए दूसरी कोशिश करने का यह सही वक्त दिख रहा है।

 

कमजोर रुपया टीसीएस के लिए अच्छा संकेत है, जिसे अपनी 123100 करोड़ रुपये की सालाना कमाई का अधिकांश हिस्सा एक्सपोर्ट्स से हासिल होता है। इसतरह की संभावना बन रही है कि टाटा ग्रुप की यह कंपनी 100 अरब डॉलर क्लब में बनी रहेगी या उसके बेहद करीब रहेगी। टीसीएस के फॉर्मर एमडी और वाइस चेयरमैन एस रामादोराई का कहना है कि मार्केट कैप के लिहाज से टॉप 10 भारतीय कंपनियों में से हर उस कंपनी के पास 100 अरब डॉलर क्लब में पहुंचने की क्षमता है, जिसका बिजनस एक्सपोर्ट्स ओरिएंटेड है। उन्होंने हालांकि कहा कि ऐसा होने में मदद तभी मिलेगी, जब रुपया कमजोर हो। 1996 से 2009 के बीच टीसीएस की कमान संभालने वाले रामादोराई ने कहा कि टेक्नॉलाजी, लोगों और कस्टमर ओरिएंटेशन पर लगातार फोकस बनाए रखने से टीसीएस को कामयाबी मिली है।टीसीएस के बाद इंडिया इंक का अगला किंग कौन -Newslok.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: