Home > NATIONAL > इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड – Newslok.com

इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड – Newslok.com

इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड - Newslok.com

भीम यूपीआई की तकनीक के लिए भारत से संपर्क में 30 देश

 

नई दिल्ली, इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड – Newslok.com || देश का अपना रुपे कार्ड साल 2018 में दो टॉप इंटरनेशनल कार्ड्स वीजा और मास्टरकार्ड में से एक को उनके जरिए भारत में किए जाने वाले ट्रांजैक्शंस की वैल्यू और वॉल्यूम के मामले में पीछे छोड़ देगा। यही नहीं,करीब 30 देशों ने डिजिटल पेमेंट्स के लिए भीम यूपीआई की तकनीक के लिए भारत से संपर्क किया है। यह जानकारी देश के टॉप अधिकारी ने दी है। नैशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के एमडी और सीईओ दिलीप अस्बे ने इस संबंध में अधिकारी को 20 अप्रैल को सिविल सर्विसेज डे पर जानकारी दी थी। इसके विवरण अब उपलब्ध हुए हैं। वीजा और मास्टरकार्ड का तीन दशकों से भारत में डेबिट कार्ड इंडस्ट्री पर दबदबा था। हालांकि करीब छह साल पहले भारत के अपने रुपे कार्ड्स जारी करने के बाद स्थिति में बदलाव आना शुरू हुआ।

इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड - Newslok.com

अस्बे ने अधिकारी को बताया, जारी किए गए कार्ड्स की संख्या के लिहाज से हम (रुपे कार्ड्स) पहले ही नंबर वन पर हैं। इस साल प्वाइंट ऑफ सेल्स मशीनों और ई-कॉमर्स पर वैल्यू और वॉल्यूम के लिहाज से नंबर दो पर पहुंच जाएंगे। लिहाजा वीजा और मास्टरकार्ड के पीछे हम नंबर तीन पर नहीं रहेंगे। हम इनमें से एक को पीछे छोड़कर नंबर दो पर पहुंच जाएंगे। इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री के सेक्रेटरी अजय प्रकाश साहनी ने अधिकारी से उसी सेशन में कहा था कि सभी सरकारी वेबसाइटों पर रुपे कार्ड्स के जरिए ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा होनी चाहिए। साहनी ने अधिकारी से कहा था,कभी-कभी देखा जाता है कि ये वेबसाइटस वीजा और मास्टरकार्ड से पेमेंट का ऑप्शन देती हैं, लेकिन रुपे कार्ड का विकल्प वहां नहीं होता है। हमें वेबसाइटों पर अपने इंस्ट्रूमेंट्स को एनेबल करना होगा।

 

इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड – Newslok.com

 

पीएम नरेंद्र मोदी ने 2015 में दिल्ली इकनॉमिक्स कॉन्क्लेव में कहा था कि रुपे कार्ड दूसरे कार्ड्स के विकल्प के रूप में उभरेगा। मोदी ने तब कहा था, रुपे कार्ड्स के जरिए हमने डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स सेगमेंट में स्वस्थ होड़ शुरू की है,जिसमें परंपरागत रूप से कुछ इंटरनेशनल प्लेयर्स का दबदबा रहा है। मोदी सरकार ने 2014 में लॉन्च की गई प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत हर खाताधारक के लिए रुपे कार्ड जारी करने का निर्देश दिया था। अस्बे ने 20 अप्रैल को अधिकारी से कहा था, रुपे कार्ड के पहले केवल 35 बैंक डेबिट कार्ड जारी किया करते थे। अब लगभग 1000 बैंक डेबिट कार्ड जारी कर रहे हैं ताकि लोग उनका उपयोग डिजिटल ट्रांजैक्शंस में कर सकें। अस्बे ने बताया था कि कम से कम 30 देशों ने एनसीपीआई से अनुरोध किया है कि भीम यूपीआई प्लेटफॉर्म का आईपी उन्हें दिया जाए। अस्बे ने कहा था, हम हमेशा पश्चिमी देशों का अनुसरण करते रहे हैं। आधार के साथ भीम यूपीआई एकमात्र प्लेटफॉर्म है, जिसमें पश्चिमी जगत पूरब का अनुसरण करने की कोशिश कर रहा है।

 

इंडियन डेबिट कार्ड इंडस्ट्री में दूसरे नंबर पर पहुंचेगा रुपे कार्ड – Newslok.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: